Today gold- silver price,8 december 2022: लगन के सीजन में सोने-चाँदी की कीमतों में भारी गिरावट . किलो किलो खरीद रहे लोग, जानिए आज का ताज़ा का रेट!

gold price today,silver price,silver price today,today gold price,today silver price,silver rate today,today gold and silver price,today silver rate,silver prices,gold silver price,gold- silver price today,gold rate today,gold and silver,mcx silver price,gold silver price today,gold and silver prices,silver,gold price,today gold rate,silver stacking,silver market

अंतराष्‍ट्रीय बाजार में गुरुवार 8 दिसंबर को सोने और चांदी के रेट बढ़त के साथ कारोबार कर रहा है तो भारतीय वायदा बाजार में दोनों कीमती धातुएं लाल निशान में ट्रेड कर रही हैं। मल्‍टी कमोडिटी एक्‍सचेंज (MCX) पर सोने का भाव (Gold Price Today) शुरुआती कारोबार में 0.06 फीसदी गिर गया है।

वहीं, वायदा बाजार में आज चांदी (Silver price Today) में 0.27 फीसदी की गिरावट आई है। पिछले ट्रेडिंग सेशन में चांदी का रेट 1.31 फीसदी की तेजी के साथ बंद हुआ था।

बुधवार को वायदा बाजार में 24 कैरेट शुद्धता वाले सोने का भाव 9:10 बजे तक कल के बंद भाव से 30 रुपये टूटकर 53,957 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार कर रहा था। आज सोने का भाव 53,999 रुपये पर खुला था। एक बार भाव 53,938 रुपये पर चला गया।

लेकिन, जल्‍द ही थोड़ा संभलकर 53,957 रुपये हो गया। मल्‍टी कमोडिटी एक्‍सचेंज पर आज चांदी में भी गिरावट देखी जा रही है। चांदी का भाव आज कल के बंद भाव से 153 रुपये गिरकर 66,117 रुपये पर कारोबार कर रहा था। चांदी का रेट आज 66,143 रुपये पर खुला। चांदी का भाव पिछले कारोबारी सत्र में 856 रुपये बढ़कर 66,270 रुपये पर बंद हुआ था।

अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में तेजी


अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में सोना और चांदी का भाव आज बढ़त पर कारोबार कर रहा है। सोने का हाजिर भाव गुरुवार को 0.71 फीसदी चढ़कर 1,783.75 डॉलर प्रति औंस हो गया है। वहीं, अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में चांदी का वायदा कारोबार कैसे करें वायदा कारोबार कैसे करें भाव भी आज 0.44 फीसदी उछलकर 22.63 डॉलर प्रति औंस हो गया है। पिछले एक महीने में सोने का भाव 3.48 फीसदी चढ़ गया है।इसी तरह चांदी का रेट भी 30 दिनों में 3.75 फीसदी तक बढ़ गया है।

कैसे करें 22 और 24 कैरेट सोने में अंतर

24 कैरेट गोल्ड 99.9 प्रतिशत शुद्ध होता है और 22 कैरेट लगभग 91 प्रतिशत शुद्ध होता है। 22 कैरेट गोल्ड में 9% अन्य धातु जैसे तांबा, चांदी, जिंक मिलाकर जेवर तैयार किया जाता है। जबकि 24 कैरेट सोना सबसे शुद्ध होता है, बता दें कि 24 कैरेट सोने के आभूषण नहीं बनाए जा सकते। इसलिए ज्यादात्तर दुकानदार 22 कैरेट में सोना बेचते हैं।

कैसे पहचाने सोने की शुद्धता

(International Organization for Standardization) अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संगठन द्वारा सोने की शुद्धता पहचानने के लिए हॉल मार्क दिए जाते हैं। 24 कैरेट सोने के आभूषण पर 999, 23 कैरेट पर 958, 22 कैरेट पर 916, 21 कैरेट पर 875 और 18 कैरेट पर 750 लिखा होता है।

ज्यादातार सोना 22 कैरेट में बिकता है, वहीं कुछ लोग 18 कैरेट का इस्तेमाल भी करते हैं। कैरेट 24 से ज्यादा नहीं होता, और जितना ज्यादा कैरेट होगा, सोना उतना ही शुद्ध होगा। सोना ऐसी धातु है जिसकी खरीदारी शादी-ब्याह, सगाई और गिफ्ट देने से लेकर छोटे और बड़े मौके के लिए लोग अपने सामार्थ्य के अनुसार खरीदते हैं। सोना खरीदने की इच्छा हर किसी के मन में होती है।

खासकर महिलाएं किसी भी मौके पर सोना खरीदने के लिए तैयार रहती हैं। क्योंकि स्पेशल मौके से लेकर आम दिनों में भी महिलाएं सोना पहनती हैं। हिंदू धर्म में भी सोने का खास महत्व होता है क्योंकि सोना-चांदी जैसे धातु को कुबेर का भंडार कहा जाता है।

ऐसे करें वायदा कारोबार कैसे करें खुद से पहचान

बीआईएस मार्क-हर ज्वैलरी पर भारतीय मानक ब्यूरो का ट्रेडमार्क का लोगो होगा। कैरेट में प्योरिटी-हर ज्वैलरी की कैरेट या फाइनेंस में प्योरिटी होगी। वायदा कारोबार कैसे करें 916 लिखा है तो इसका मतलब यह है कि ज्वैलरी 22 कैरेट के गोल्ड (91.6 फीसदी शुद्धता) की है।

अगर 750 लिखा है तो इसका मतलब यह है कि ज्वैलरी 18 कैरेट (75 फीसदी शुद्ध) गोल्ड का है।अगर 585 लिखा है तो इसका मतलब कि ज्वैलरी 14 कैरेट गोल्ड (58.5 फीसदी) का है। हर ज्वैलरी पर एक विजिबल आइडेंटिफिकेशन मार्क होगा जो हॉलमार्क सेंटर का नंबर होगा। ज्वैलरी पर एक विजिबल आइडेंटिफिकेशन मार्क होगा ज्वैलर कोड के रूप में, यानी यह किस ज्वैलर के यहां बना है, उसकी पहचान होगी। असली हॉलमार्क पर भारतीय मानक ब्यूरो का तिकोना निशान होता है, ये सोने की कैरेट की शुद्धता के निशान के बगल में होता है, ज्वैलरी पर निर्माण का वर्ष और और उसपर उत्पादक का भी लोगो छपा होता है।

सोने की शुद्धता

वैसे तो हर दुकानदार अपने बेचे गए गहने को मार्केट में चल रहे रेट के अनुसार वापस लेने का दावा करता है। लेकिन अगर आप उसके पास जाएंगे तो जरूरी नहीं कि दावे के अनुरूप ही मुनाफा मिले और सोना वाकई उतना शुद्ध हो जितना कि उसने दावा किया था।

ऐसे में सोने के लिए हॉलमार्क को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शुद्धता का पैमाना माना जाता है जिसमें यह गारंटी होती है कि सोना शुद्ध है। भारतीय मानक ब्यूरो यानी बीआईएस का हॉलमार्क सोने की शुद्धता सुनिश्चित करता है। यही वजह है कि हॉलमार्क वाले आभूषण खरीदारी के लिहाज से सबसे सुरक्षित मान जाते हैं। कई बार हॉलमार्क के गहनों की कीमत भी अलग-अलग दुकानों पर अलग-अलग हो सकती है। इसलिए कई जगहों पर जानकारी लेकर उपयुक्त जगह से ही हॉलमार्क सोना खरीदें।

सोना 18 कैरेट और उससे कम, 22 कैरेट और 24 कैरेट जैसे शुद्धता के विभिन्न वेरिएंट में आता है। हॉलमार्क वाली ज्वैलरी खरीदना बेहतर है ताकि आप शुद्धता को लेकर सुनिश्चित रहें। जब भी सोना खरीदें तो उसका वजन चेक जरूर करें। सोना किराने के सामान जैसा नहीं है। यह बहुत महंगा हो गया है और इसकी लागत बहुत अधिक है। सोना खरीदने से पहले पर्याप्त रिसर्च कर लें।

बिल लेना न वायदा कारोबार कैसे करें भूलें

सोना जब भी खरीदें तो उसका बिल जरूर लें। आप अगर कुछ वर्षों के बाद उसी सोने को लाभ पर बेचते हैं, तो आपको कैपिटल गैन टैक्स की गणना के लिए खरीदारी का मूल्य पता होना चाहिए। इसके लिए बिल प्रूफ का काम करेगा। ज्वेलर की तरफ दिए जाने वाले बिल में आपके खरीदे गए सोने या चांदी के जेवर की शुद्धता के अलावा उसका रेट और वजन का विवरण होता है।आपके पास आभूषणों का बिल वायदा कारोबार कैसे करें नहीं होगा तो सुनार आपसे मनमाने भाव पर सोना खरीदने की कोशिश करेगा। इससे आपको नुकसान होगा।

सरसों किसानों के लिए ये रिपोर्ट देखना जरूरी है | सरसों की खेती को लेकर A To Z जानकारी

sarso ki kheti

किसान साथियो भारत में तेल तिलहन की फसलों में सरसों का मुख्य स्थान है। सोयाबीन और पाम के बाद सरसों विश्व में तीसरी सबसे ज्यादा महत्तवपूर्ण तिलहन फसल है। सरसों का तेल लगभग सभी घरों में खाद्य तेल के रूप में काम आता है। सरसों की खेती मुख्य रूप से राजस्थान, हरियाणा, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में की जाती है। सरसों की खास बात यह है कि यह वायदा कारोबार कैसे करें सिंचित और असिंचित, दोनों ही तरह के खेतों में उगाई जा सकती है। राजस्थान के बड़े हिस्से में असिंचित भूमि में सरसों की खेती होती है। WhatsApp पर भाव पाने के लिए ग्रुप join करे

ज्यादा दिन नहीं हुए जब सरसों के भाव इतने आकर्षक नहीं थे। लेकिन पिछले दो सीज़न से किसानों को सरसों के काफी अच्छे भाव मिल रहे हैं जिससे किसानो का सरसों की खेती के प्रति रुझान बढ़ा है। घरेलू बाज़ार के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय बाज़ारों में भी सरसों की मांग में तेजी आने के कारण किसानों को इस साल सरसों का काफी अच्छा भाव मिला है। केंद्र सरकार वायदा कारोबार कैसे करें ने इसके न्यूनतम समर्थन मूल्य में ठीक ठाक बढ़ोतरी की है। किसान साथियों अगर आपको सरसों की खेती करनी है या आपने सरसों लगा रखी है तो निम्नलिखित बातें आप के उत्पादन को अच्छा खासा बढ़ा सकती हैं।

जलवायु
सरसों भारत की प्रमुख तिलहन फसल में से एक है, रबी की फसल होने के कारण आमतौर पर मध्य सितंबर से मध्य अक्टूबर तक सरसों की बुवाई कर देनी चाहिए। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सरसों की फसल का अच्छा उत्पादन प्राप्त करने के लिए 15 से 25 डिगी तापमान की आवश्यकता होती है। देखें आज के HR, UP, MP, RJ के सरसों, गेहू, नरमा, कपास, ग्वार, मुग, मोठ, अरंडी,मुंगफली, जीरा, इसबसोल भाव 10 Dec 2022

उपयुक्त मिट्टी
वैसे तो सरसों की खेती सभी प्रकार की मिट्टी में की जा सकती है, लेकिन सरसों की अच्छी उपज पाने के लिए समतल एवं अच्छी जल निकासी वाली बलुई दोमट मिट्टी सबसे उपयुक्त रहती है, लेकिन वायदा कारोबार कैसे करें यह नमकीन या रेह वाली एवं बंजर भूमि नहीं होनी चाहिए।

खेत की तैयारी कैसे करें
सरसों की खेती में भुरभुरी मिट्टी की आवश्यकता होती है, खेत को सबसे पहले मिट्टी पलटने वाले हल से जुताई करनी चाहिए। इसके बाद दो से तीन जुताई देशी हल या कल्टीवेटरv(Cultivator) के माध्यम से करना चाहिए। इसकी जुताई करने के बाद खेत में नमी रखने के लिए व खेत समतल करने के लिए पाटा (मेज) लगाना अति आवश्यक हैं। पाटा लगाने से सिंचाई करने में समय व पानी दोनों की बचत होती है। देखें आज के सरसों के लाइव रेट Sarso Live Rate Today 10 Dec 2022

सरसों की बुवाई के लिए बीज की मात्रा
जिन खेतों में सिंचाई के ठीक ठाक साधन उपलब्ध हो वहां सरसों की फसल की बुवाई के लिए 2 से 2.5 किलोग्राम बीज प्रति एकड़ की दर से प्रयोग करना चाहिए। जिन खेतों में सिंचाई के पर्याप्त साधन उपलब्ध ना हो वहां सरसों की बीज की मात्रा अलग हो सकती है। आपकी जानकारी बता दें कि बीज की मात्रा फसल की किस्म के आधार पर निर्भर करती वायदा कारोबार कैसे करें है। यदि फसल की अवधि अधिक दिनों की है तो बीज की मात्रा कम लगेगी और यदि फसल कम अवधि की है तो बीज की मात्रा ज्यादा लगेगी।

सरसों की उन्नत किस्में
सरसों की खेती के लिए जमीन के हिसाब से उन्नत किस्मों की जानकारी होना भी आवश्यक है, जिससे अधिक उत्पादन प्राप्त किया जा सकें। सरसों की कई तरह की किस्में सिंचित क्षेत्र व असिंचित क्षेत्र के लिए अलग-अलग हैं

(a) आर.एच (RH) 30, सिंचित क्षेत्र व असिंचित क्षेत्र
(b) टी 59 (वरूणा) : यह किस्म उन क्षेत्रों में अच्छी पैदावार प्रदान करती हैं जहां सिंचाई की अच्छी व्यवस्था नहीं हैं। इसकी वायदा कारोबार कैसे करें उपज असिंचित क्षेत्र में 15 से 18 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है। इसके दाने में तेल की मात्रा लगभग 36 प्रतिशत होती है।
(c) पूसा बोल्ड : आशीर्वाद (आर.के), यह किस्म देर से बुवाई के लिए (25 अक्टूबर से 15 नवंबर तक) उपयुक्त है।
(d) एन.आर.सी. एच.बी. (NRC HB) 101 : ये किस्म उन क्षेत्रों में अच्छी पैदावार प्रदान करती हैं जहां सिंचाई की पर्याप्त व्यवस्था होती हैं। ये किस्म 8 से 9 क्विंटल प्रति एकड़ तक पैदावार देती हैं।

सरसों की फसल में सिंचाई
सरसों की फसल में पहली सिंचाई 25 से 30 दिन पर तथा दूसरी सिंचाई फलियाें में दाने भरने की अवस्था में करनी चाहिए, यदि जाड़े में वर्षा हो जाती है, तो दूसरी सिंचाई न भी करें तो भी अच्छी पैदावार ली जा सकती है। किसान साथियो को ध्यान रहे कि सरसों में फूल आने के समय खेत की सिंचाई नहीं करनी चाहिए।

खाद व उर्वरक
जिन खेतों में सिंचाई के उपयुक्त साधन उपलब्ध हो वहां के लिए 6 से 12 टन सड़े हुए गोबर की खाद, 160 से 170 किलोग्राम यूरिया, 250 किलोग्राम सिंगल सुपर फॉस्फेट ,50 किलोग्राम म्यूरेट व पोटाश एवम 200 किलोग्राम जिप्सम बुवाई से पूर्व खेत में मिलाना उपयुक्त होता है। यूरिया की आधी मात्रा बुवाई के समय एंव बची हुई आधी मात्रा पहली सिंचाई के बाद खेत में मिला दें। जिन खेतों में सिंचाई के उपयुक्त साधन उपलब्ध ना हो वहां के लिए वर्षा से पुर्व 4 से 5 टन सड़ी हुई गोबर की खाद, 85 से 90 किलोग्राम यूरिया, 125 किलोग्राम सिंगल सुपर फॉस्फेट, 33 किलोग्राम म्यूरेट व पोटाश प्रति हेक्टेयर की दर से बुवाई करते समय खेत में डाल दें। देखें आज के गेहूं/कनक के लाइव रेट wheat kanak gehu Live Rate Today 10 Dec 2022

खरपतवार का नियंत्रण
सरसों की खेती में बुवाई के 15 से 20 दिन बाद खेत से घने पौधों को निकाल कर उनकी आपसी दूरी 15 सेंटीमीटर कर देनी चाहिए, खरपतवार खत्म करने के लिए सरसों के खेत में निराई व गुड़ाई सिंचाई करने से पहले करनी चाहिए। खरपतवार खत्म ना होने की स्थिति में दूसरी सिंचाई के बाद भी निराई व गुड़ाई करना चाहिए। रासायनिक विधि से खरपतवार का नियंत्रण करने वायदा कारोबार कैसे करें के लिए बुवाई के तुरंत बाद 2 से 3 दिन के अंदर पेंडीमेथालीन 30 ईसी रसायन की 3.3 लीटर मात्रा को 600 से 800 लीटर पानी में मिलाकर प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काव करना चाहिए।

फसल की कटाई और भंडारण
सरसों की फसल में जब 75% फलियां सुनहरे रंग की हो जाए, तब फसल को मशीन से या हाथ से काटकर, सुखाकर या मड़ाई करके दाने को अलग कर लेना चाहिए, सरसों के दाने जब अच्छी तरह से सूख जाएं तभी उनका भंडारण करना चाहिये। Aaj Ka Narma Ka bhav नरमा और कपास के ताजा मंडी भाव Narma Price Today 10 December 2022

कितना होता है उत्पादन
जिन क्षेत्रों में सिंचाई की पर्याप्त व्यवस्था नहीं है वहां इसकी पैदावार 8 से 10 क्विंटल प्रति एकड़ तक हो सकती है तथा जिन क्षेत्रों में सिंचाई की पर्याप्त व्यवस्था हैं वहां 10 से 12 क्विंटल प्रति एकड़ तक की उपज प्राप्त हो सकती हैं।

सरसों का बाज़ार भाव व कमाई
चालू सीज़न के लिए केंद्र सरकार ने इस साल सरसों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) में 150 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि कर 5200 रुपये प्रति क्विंटल का भाव तय किया है। जबकि पिछले वर्ष सरसों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) 5050 रुपये था। सरसों की बढ़ती मांग और उपलब्धता में कमी के कारण इस बार खुले बाज़ारों में न्यूनतम समर्थन मूल्य से भी ज्यादा भाव मिल रहे हैं। खुले बाज़ारों में सरसों 6500 से 7000 रुपये प्रति क्विंटल का भाव मिल रहा है। किसान अपनी सरसों की फसल देश की प्रमुख मंडियों में जहां भाव अधिक हो, वहां अपनी फसल बेच सकते हैं। मंडी भाव टुडे पर हमारी कोशिश है कि हम आपकों सही समय पर सही भाव की जानकारी देते रहे। बता दें कि इस साल सरसों की फसल ने किसानों को अच्छे दाम दिलाए हैं। किसानों को आगे भी सरसों के अच्छे भाव मिलने की उम्मीद है।

सोने में तेजी लौटी, चांदी फिर 68 हजारी

सोने में तेजी लौटी, चांदी फिर 68 हजारी

एमसीएक्स में सोने—चांदी के दामों में आई रिकॉर्ड तोड़ तेजी के बाद घरेलू सर्राफा बाजार में भी दोनों कीमती धातुओं के भाव उछल गए। शुक्रवार को जयपुर सर्राफा बाजार में सोने के दाम 200 रुपए चढ़कर 55,400 रुपए प्रति दस ग्राम पर आ गए। दूसरी तरफ, औद्योगिक मांग के बने होने और वायदा बाजार में तेजी के कारण चांदी के दाम भी 1200 रुपए के उछाल के साथ 68,000 रुपए प्रति किलोग्राम पर पहुंच गए। एमसीएक्स पर सोना 54,187 रुपए प्रति दस ग्राम पर बिक रहा है। चांदी की कीमत 67,366 रुपए प्रति किलोग्राम है। भारतीय बाजारों में शुक्रवार को मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में सोना और चांदी दोनों उच्च स्तर पर कारोबार कर रहे है। एमसीएक्स पर तीन फरवरी 2022 को परिपक्व होने वाला सोना वायदा 178 रुपए या 0.33 प्रतिशत की मामूली बढ़ोतरी के साथ 54,187 रुपए प्रति दस ग्राम पर रहा। इस बीच तीन मार्च 2022 के लिए होने वाली चांदी वायदा की कीमत एमसीएक्स पर 498 रुपए या 0.74 प्रतिशत बढ़कर 67,366 रुपए प्रति किलोग्राम हो गई है। गौरतलब है कि 8 दिसंबर को बाजार बंद होने पर एमसीएक्स पर सोने और चांदी के दाम क्रमश: 54,051 रुपए प्रति दस ग्राम और 67,034 रुपए प्रति किलोग्राम थे। आपको बता दें कि भारत में सोने और चांदी की कीमतें डॉलर के मुकाबले रुपए की कीमत सहित कई चीजों पर निर्भर करती है। सोने और चांदी जैसी कीमती धातुओं के दाम निर्धारित करने में वैश्विक मांग भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

रेटिंग: 4.98
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 558