3. शेयर चुनते वक्त बाजार का ट्रेंड देखना चाहिए. इसके बाद कंपनी की पोर्टफोलियो चेक करें. आप चाहे तो शेयर को लेकर एक्सपर्ट की राय भी ले सकते हैं.

इन 5 बातों का रखेंगे ध्यान तो Intraday Trading मे मिल सकता है बेहतर मुनाफा, जानिए कैसे

इन 5 बातों का रखेंगे ध्यान तो Intraday Trading मे मिल सकता है बेहतर मुनाफा, जानिए कैसे

लोग अक्सर कहते हैं कि शेयर बाजार से मोटा कमाया जा सकता है लेकिन ये इतना आसान भी नहीं है. हालांकि अगर आप बेहतर रणनीति बनाकर लॉन्ग टर्म में सोच कर निवेश करेंगे तो यहां से कमाई की जा सकती है. वहीं इक्विटी मार्केट में इंट्रा डे के जरिए कुछ घंटों में ही अच्छा पैसा बनाया जा सकता है. इंट्रा डे में डिलवरी ट्रेडिंग के मुकाबले पैसा जल्दी बनाया जा सकता है लेकिन इसके जोखि से बचने के लिए आपको बेहतर रणनीति, कंपनी के फाइनेंशियल और एक्सपर्ट की सलाह जैसी चीजों का ध्यान रखना होता है.

क्या है इंड्रा डे ट्रेडिंग

शेयर बाजार में कुछ घंटो के लिए या एक ट्रेडिंग सेशन के लिए पैसा लगाने को इंट्रा डे कहा जाता है. मान लिजिए बाजार खुलने के समय आपने एक शेयर में पैसा आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे लगाया और देखा की आपको आपके मन मुताबिक मुनाफा मिल रहा है तो आप उसी समय उस शेयर को बेचकर निकल सकते है. इंट्रा डे में अगर आप शेयर उसी ट्रेंडिग सेशन में नही भी बेचेंगे तो वो अपने आप भी सेल ऑफ हो जाता है. इसका मतलब आपको मुनाफा हो या घाटा हिसाब उसी दिन हो जाता है. जबकि डिलवरी ट्रेडिंग में आप शेयर को जबतक चाहे होल्ड करके रख सकते हैं. इंट्रा डे में एक बात यह भी है कि आपको ब्रोकरेज ज्यादा देनी पड़ती है. हां लेकिन इस ट्रेडिंग की खास बात यह है कि आप जब चाहे मुनाफा कमा कर निकल सकते है.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट

बाजार के जानकारों के मुताबिक शेयर बाजार में इंट्रा डे में निवेश करें या डिलिवरी ट्रेडिंग करें आपको पहले इसके लिए अपने आप को तैयार करना होता कि आप किसलिए निवेश करना चाहते हैं और आपका लक्ष्य क्या है. फिर इसके बाद आप इसी हिसाब से अपनी रणनीति और एक्सपर्ट के जरिए बाजार से कमाई कर सकते हैं. एंजल ब्रोकिंग के सीनियर एनालिस्ट शमित चौहान के मुताबिक इंट्रा डे में रिस्क को देखते हुए आपकी रणनीति बेहतर होनी चाहिए. इसके लिए आपको 5 अहम बाते ध्यान मं रखनी चाहिए.

डीमैट अकाउंट से कर सकते हैं ट्रेडिंग

अगर शेयर बाजार में ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो आपको डीमैट अकाउंट और एक ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना होगा. आप ऑनलाइन खुद से ट्रेडिंग कर सकते हैं या ब्रोकर को ऑर्डर देकर शेयर का कारोबार कर सकते हैं. इंट्रा डे में किसी शेयर में आप जितना चाहे उतना पैसा लगा सकते हैं.

डिस्क्लेमर : आर्टिकल में इंड्रा डे ट्रेडिंग को लेकर ​बताए गए टिप्स मार्केट एक्सपर्ट्स के सुझावों पर आधारित हैं. निवेश से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें.

ट्रैडिंग ओर इनवेस्टमेंट के अलग अलग तरीकों के बारे मे जाने

शेयर मार्केट मे निवेश करने वाले सभी लोग इन दो प्रमुख श्रेणियों मे से एक मे निवेश कर सकते है या समान रूप से इन दोनों श्रेणियों से भी हो सकते है ।

ट्रैडर वह व्यक्ति होता है जो मार्केट के छोटे-छोटे मॉवमेंट को समझ कर उस पर ट्रैड करता हो जिसको इंट्राडे ट्रैडिंग ओर स्विंग ट्रैडिंग कहते है।

इंट्राडे ट्रैडिंग एक दिन के अंदर कि जाने वाली ट्रैडिंग होती है, इस तरह कि ट्रैडिंग मे त्वरित लाभ मिलता है लेकिन जोखिम भी अधिक रहता है ऐसे traders को शेयरों का तकनीकी रूप से विश्लेषण करना आना बहुत जरूरी होता है।

साथ ही उन्हे डेरिवेटिव ट्रैडिंग मे ट्रैड करने के लिए बेहतर रणनीति ओर उनसे जुड़ी समस्याओ को हल करने के लिए कुछ मुख्य बातों को जानने कि भी जरूरत है।

स्विंग ट्रैडिंग मे ट्रैडर सप्ताह से लेकर महीनों तक का निवेश करते है , यह इंट्राडे ट्रैडिंग कि तुलना मे थोड़ी कम जोखिम भरी होती है स्विंग ट्रैडिंग के आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे लिए भी traders को तकनीकी विश्लेषण के बारे मे जानना जरूरी होता है

ट्रैडिंग मनोविज्ञान (trading psychology) को जाने

शेयर मार्केट मे सक्सेस होने के लिए ट्रैडिंग मनोविज्ञान को जानना बहुत ही जरूरी होता है , जब एक नया ट्रैडर मार्केट मे ट्रैडिंग करने के लिए आता है तो वह इस चीज पर ध्यान नहीं दे पाता है या देना नहीं चाहता शायद उनको इसका महत्व नहीं पता होता है लेकिन समय के साथ वह ट्रैडिंग मनोविज्ञान को समझने लगता है ।

ट्रैडिंग मनोविज्ञान मे आपको केसे लालच , डर , fomo एंट्री आदि से बच कर रहना है इसके बारे मे जानना होता है ।

सामान्यत: नए ट्रैडर को जब मार्केट से प्रॉफ़िट मिलता है तो वह लालच मे आकार ओवर ट्रैडिंग करने लग जाते है जब मार्केट उनके ट्रैड के उलट चलता है तो वो अपने लॉस को अफोर्ड नहीं पाते ओर डर के मारे ट्रैड से बाहर हो जाते है, फिर वही लॉस रिकवर के चक्कर मे ओर लॉस करते जाते है मार्केट को समझे बिना भावनाओ मे बहकर ।

इसलिए मार्केट मे ट्रैड करने से पहले ट्रैडिंग मनोविज्ञान को समझना बहुत जरूरी होता है

सफल निवेशकों द्वारा लिखी किताबों का अध्ययन करना

सफल निवेशकों के द्वारा लिखी गई किताबों को पढ़ना भी शेयर मार्केट को जानने का एक अच्छा तरीका होता है वो सिर्फ मार्केट के बारे मे बताते ही नहीं बल्कि अपना एक्सपीरियन्स भी शेयर करते है , नीचे मे कुछ चर्चित किताबों के नाम दे रहा हूँ जिसको आप पढ़कर शेयर मार्केट के बारे मे जान सकते है ।

  • The intelligent Investor
  • Rich Dad’s Guide to Investing
  • how to investment in stocks market
  • A to Z share market
  • the intelligent
  • intraday trading ki pahchan
  • rich dad poor dad
  • How to Avoid Loss and Earn Consistently in the Stock Market
  • Learn to Earn
  • Common Stocks and Uncommon Profits
  • Value Investing and Behavioral Finance

इन 5 बातों का रखेंगे ध्यान तो Intraday Trading मे मिल सकता है बेहतर मुनाफा, जानिए कैसे

इन 5 बातों का रखेंगे ध्यान तो Intraday Trading मे मिल सकता है बेहतर मुनाफा, जानिए कैसे

लोग अक्सर कहते हैं कि शेयर बाजार से मोटा कमाया जा सकता है लेकिन ये इतना आसान भी नहीं है. हालांकि अगर आप बेहतर रणनीति बनाकर लॉन्ग टर्म में सोच कर निवेश करेंगे तो यहां से कमाई की जा सकती है. वहीं इक्विटी मार्केट में इंट्रा डे के जरिए कुछ घंटों में ही अच्छा पैसा बनाया जा सकता है. इंट्रा डे में डिलवरी ट्रेडिंग के मुकाबले पैसा जल्दी बनाया जा सकता है लेकिन इसके जोखि से बचने के लिए आपको बेहतर रणनीति, कंपनी के फाइनेंशियल और एक्सपर्ट की सलाह जैसी चीजों का ध्यान रखना होता है.

क्या है इंड्रा डे ट्रेडिंग

शेयर बाजार में कुछ घंटो के लिए या एक ट्रेडिंग सेशन के लिए पैसा लगाने को इंट्रा डे कहा जाता है. मान लिजिए बाजार खुलने के समय आपने एक शेयर में पैसा लगाया और देखा की आपको आपके मन मुताबिक मुनाफा मिल रहा है तो आप उसी समय उस शेयर को बेचकर निकल सकते है. इंट्रा डे में अगर आप शेयर उसी ट्रेंडिग सेशन में नही भी बेचेंगे तो वो अपने आप भी सेल ऑफ हो जाता है. इसका मतलब आपको मुनाफा हो या घाटा हिसाब उसी दिन हो जाता है. जबकि डिलवरी ट्रेडिंग में आप शेयर को जबतक चाहे होल्ड करके रख सकते हैं. इंट्रा डे में एक बात यह भी है कि आपको ब्रोकरेज ज्यादा देनी पड़ती है. हां लेकिन इस ट्रेडिंग की खास बात यह है कि आप जब चाहे मुनाफा कमा कर निकल सकते है.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट

बाजार के जानकारों के मुताबिक शेयर बाजार में इंट्रा डे में निवेश करें या डिलिवरी ट्रेडिंग करें आपको पहले इसके लिए अपने आप को तैयार करना होता कि आप किसलिए निवेश करना चाहते हैं और आपका लक्ष्य क्या है. फिर इसके बाद आप इसी हिसाब से अपनी रणनीति और एक्सपर्ट के जरिए बाजार से कमाई कर सकते हैं. एंजल ब्रोकिंग के सीनियर एनालिस्ट शमित चौहान के मुताबिक इंट्रा डे में रिस्क को देखते हुए आपकी रणनीति बेहतर होनी चाहिए. इसके लिए आपको 5 अहम बाते ध्यान मं रखनी चाहिए.

डीमैट अकाउंट से कर सकते हैं ट्रेडिंग

अगर शेयर बाजार में ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो आपको डीमैट अकाउंट और एक ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना होगा. आप ऑनलाइन खुद से ट्रेडिंग कर सकते हैं या ब्रोकर को ऑर्डर देकर शेयर का कारोबार कर सकते हैं. इंट्रा डे में किसी शेयर में आप जितना चाहे उतना पैसा लगा सकते हैं.

डिस्क्लेमर : आर्टिकल में इंड्रा डे ट्रेडिंग को लेकर ​बताए गए टिप्स मार्केट एक्सपर्ट्स के सुझावों पर आधारित हैं. निवेश से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें.

डॉ विवेक बिंद्रा से सीखे करोड़पतियों का वो फार्मूला, जो स्टॉक मार्केट में दिलाएगा आपको 100% सक्सेस

डॉ विवेक बिंद्रा से सीखे करोड़पतियों का वो फार्मूला, जो स्टॉक मार्केट में दिलाएगा आपको 100% सक्सेस

आज हम में से ना जाने कितने लोग ऐसे है जो शेयर मार्केट से आसानी से पैसे कमाने की चाहत रखते है. लेकिन पैसे डूब जाने के डर से अपनी ख्वाहिश दबा देते है. हालांकि शेयर मार्केट से पैसे कमाने की चाहत रखना आसान है, लेकिन अपने पैसे को डूबने से बचाकर अच्छी कमाई करना काफी कठीन है, लेकिन अगर रणनीति अच्छी हो तो आपका आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे मुनाफा होना तय है. स्टॉक मार्केट के जानकार कहते है शेयर बाजार में निवेश के आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे लिए सब्र, समझ और सही रणनीति बहुत मायने रखती है. मोटिवेशनल स्पीकर डॉ. विवेक बिंद्रा (Dr Vivek Bindra) ने स्टॉक मार्केट के कुछ ऐसे ही फार्मूले बताए है, जो पहली बार निवेश करने वाले को भी बेहद कम रिस्क में अच्छी कमाई करवा सकते है.

रेटिंग: 4.68
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 475